|
|
|
|
|
|
|
|
|
     
  News  
 
पांच लाख इक्यावन हजार दीयों से जगमग हुई अयोध्या
अयोध्या को वैदिक सिटी के रूप में विकसित किया जाएगा

सरयू जी की अविरलता और निर्मलता के लिए विषेष कार्य हो रहे, राम की पैड़ी का विस्तार किया जा रहा

इस वर्ष दीपोत्सव-2020 में 05 लाख 51 हजार दीये प्रज्ज्वलित किए जा रहे हैं

अगले वर्ष 07 लाख 51 हजार दीये प्रज्ज्वलित किए जाएंगे

अयोध्या में पंचकोसी, चैदहकोसी और चैरासीकोसी परिक्रमा के लिए मार्ग का निर्माण किया जा रहा है, जिससे श्रद्धालुओं को सुविधा मिलेगी

प्रधानमंत्री ने काषी, अयोध्या व प्रयागराज को वैष्विक पहचान दिलायी

आने वाले समय में अयोध्या सिटी को वैदिक रामायण के अनुरूप में विकसित किया जाएगा

वर्चुअल दीपोत्सव www.virtualdeepotsav.com पोर्टल को लाॅन्च

मुख्यमंत्री ने श्रीरामजन्मभूमि पहुंचकर श्रीरामलला विराजमान के दर्षन-पूजन कर वहां दीप प्रज्ज्वलित किया
Tags: Ayodhya News
Publised on : 2020:11:12      Time 19:19    Last  Update on  : 2020:11:12      Time 19:19

अयोध्या, 13 नवम्बर 2020 ( उ.प्र.समाचार सेवा)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  ने आज अयोध्या के रामकथा पार्क में दीपावली के अवसर पर आयोजित दीपोत्सव-2020 कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार अयोध्या को वैश्विक पटल पर पर्यटन केन्द्र के रूप में विकसित कर रही है। इस वर्ष दीपोत्सव-2020 में 05 लाख 51 हजार दीये प्रज्ज्वलित किए जा रहे हैं। अगले वर्ष 07 लाख 51 हजार दीये प्रज्ज्वलित करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। राज्य सरकार ने राम की पैड़ी को अविरल और निर्मल बनाने का कार्य किया है। साथ ही, राम की पैड़ी का विस्तार भी किया गया है।
इस अवसर पर प्रदेषवासियों को दीपावली की बधाई व शुभकामनाएं देते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि यह वर्ष अत्यन्त महत्वपूर्ण है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की प्रेरणा से 05 शताब्दी की लम्बी अवधि के उपरान्त प्रभु श्रीराम के भव्य मन्दिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त हुआ है। श्रीराम जन्मभूमि मन्दिर के षिलान्यास/भूमि पूजन के बाद यह पहला दीपोत्सव आयोजित किया जा रहा है। उन्होंने भगवान श्रीराम मन्दिर के निर्माण हेतु प्रधानमंत्री जी का आभार व्यक्त किया। प्रदेष में रामायण, कृष्ण सहित विभिन्न आध्यात्मिक सर्किटों का निर्माण तेजी से किया जा रहा है। उन्हांेने कहा कि अयोध्या में पंचकोसी, चैदहकोसी और चैरासीकोसी परिक्रमा के लिए मार्ग का निर्माण किया जा रहा है, जिससे श्रद्धालुओं को सुविधा मिलेगी।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि यदि कोरोना का खतरा नहीं होता, तो यह कार्यक्रम और भी व्यापक स्तर पर आयोजित किया जाता। कोरोना काल में भी लोगों की सेवा के साथ-साथ विकास की प्रक्रिया को जारी रखा गया। उन्होंने कहा कि वर्ष 2020 का यह उत्सव ऐसे समय आया है, जब पूरी दुनिया वैष्विक महामारी कोविड-19 के विरुद्ध जंग लड़ रही है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी के कुषल मार्गदर्षन एवं नेतृत्व में पूरा देश कोरोना से मजबूती से लड़ रहा है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि देष-दुनिया सत्य, धर्म व न्याय की विजय के रूप में दीपोत्सव को मनाती है। वर्तमान में केन्द्र व प्रदेष सरकार बिना किसी भेदभाव के सभी को योजनाओं का लाभ देने का कार्य कर रही है। प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा से दीपोत्सव कार्यक्रम सफलतापूर्वक सम्पादित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कार्य करने की दृष्टि होनी चाहिए। प्रधानमंत्री जी में स्पष्ट दृष्टि है और उनमें सही निर्णय लेने की क्षमता है। प्रधानमंत्री जी जो कहते हैं, वह करते हैं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने काषी, अयोध्या व प्रयागराज को वैष्विक पहचान दिलायी है। अयोध्या को दुनिया की सबसे उत्कृष्ट नगरी में विकसित करने के लिए कार्य किया जा रहा है। राजर्षि दषरथ मेडिकल काॅलेज, अयोध्या पूर्णता की ओर अग्रसर है। भगवान श्रीराम के नाम पर अयोध्या में अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट का निर्माण किया जा रहा है। आने वाले समय में अयोध्या को वैदिक सिटी के रूप में विकसित किया जाएगा। भगवान श्रीराम जहां-जहां गए थे, उन स्थलों को विकसित किया जाएगा। इसके साथ ही, तुलसीदास जी की जन्मस्थली लालापुर का पर्यटन की दृष्टि से विकास किया जाएगा।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि केन्द्र सरकार ने शौचालयों का निर्माण कर नारी की गरिमा को बढ़ाने का कार्य किया। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गरीबों को आवास देने का कार्य किया गया। 04 करोड़ परिवारों को निःषुल्क विद्युत कनेक्षन वितरित किए गए। उज्ज्वला योजना के तहत रसोई गैस कनेक्षन दिए गए। आयुष्मान भारत योेजना के अन्तर्गत पात्र व्यक्ति को 05 लाख रुपए का बीमा कवर प्रदान किया गया है। प्रधानमंत्री जी के निर्णयों से राषन कार्ड पोर्टेबिलिटी का लाभ सभी पात्र व्यक्तियों को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि केन्द्रीय वित्त मंत्री ने कहा है कि कोरोना कालखण्ड में भी विकास को नई गति मिली है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रयागराज कुम्भ का भव्य और दिव्य आयोजन किया गया। राम-जानकी मार्ग के निर्माण से सीतामढ़ी से अयोध्या की दूरी मात्र 05 से 06 घण्टे में तय की जा सकेगी। राम वनगमन मार्ग का निर्माण तेजी से किया जा रहा है। इससे चित्रकूट और अयोध्या का सफर मात्र साढ़े तीन से चार घण्टे में पूरा किया जा सकेगा।
राज्यपाल श्रीमती आनन्दीबेन पटेल जी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के प्रयासों की प्रषंसा करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री जी के कुषल मार्गदर्षन में लगातार चैथी बार दीपोत्सव कार्यक्रम सफलतापूर्वक आयोजित हो रहा है। यह दिव्य दीपोत्सव कार्यक्रम भगवान श्रीराम की नगरी अयोध्या की छवि को पर्यटन के मानचित्र पर पूरे विश्व में आलोकित कर रहा है।
राज्यपाल जी ने कहा कि भगवान राम की जन्मस्थली अयोध्या का इतिहास पुरातन है। श्रीराम और रामायण भारतीय सांस्कृतिक और सामाजिक जीवन मूल्यों के वाहक है। भाषा और संवाद की दृष्टि से भी रामलीला भारतीय संस्कृति की परम्परा रही है। भारत के अलावा माॅरीशस, इण्डोनेशिया, सूरीनाम, म्यान्मार और थाईलैंड जैसे देशों में रामलीला की शानदार परम्परा आज भी जीवंत है। वहां के लोगों की आस्था में, अतीत में श्रीराम किसी न किसी रूप में रचे-बसे हुए हैं। यह न सिर्फ हमारी सांस्कृतिक उपलब्धि की मिसाल है, बल्कि इसमें भविष्य की कई मांगलिक संभावनाएं भी विद्यमान है।
राज्यपाल जी ने कहा कि श्रीराम की महिमा और उनकी जन्मभूमि की महत्ता से न जाने कितने ग्रंथ भरे पड़े हैं। ऐसी महिमा और महत्ता से जुड़ी इस अयोध्या नगरी में मन्दिर का कार्य आरम्भ होना वास्तव में राम भक्तों के लिए एक विशेष उपहार ही है, जिसकी प्रतीक्षा जनमानस को पांच शताब्दियों से भी अधिक समय से थी। उन्होंने कहा कि 05 अगस्त, 2020 को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने देशभर के लोगों के सहयोग से निर्मित होने वाले श्रीराम मन्दिर के भूमि पूजन एवं कार्यारम्भ समारोह में हिस्सा लेकर भारतीय मूल्यों के संवाहक प्रभु श्रीराम के इस भव्य मन्दिर का मार्ग प्रशस्त किया।
राज्यपाल जी ने कहा कि अयोध्या धाम में श्रीराम मन्दिर हमारी सांस्कृतिक एकता और वसुधैव कुटुम्बकम का प्रतीक है। विश्व पटल पर अयोध्या धाम का विकास स्थापित धार्मिक पर्यटन नगरी के रूप में होगा। मन्दिर निर्माण के फलस्वरूप अयोध्या धाम में रोजगार सृजन एवं आर्थिक गतिविधियों का उन्नयन होगा। इस क्षेत्र में पूरे अर्थतंत्र मंे बदलाव एवं हर क्षेत्र में सभी लोगों के लिए अवसर की उपलब्धता रहेगी। अयोध्या धाम का विकास सोलर सिटी के रूप में करने से पर्यावरण संरक्षित और संतुलित होगा। अयोध्या धाम को वैश्विक पहचान दिलाने के साथ-साथ सभी आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित कर इसका सर्वांगीण विकास सरकार की प्राथमिकता है।
राज्यपाल जी ने कहा कि कोविड-19 महामारी से सभी को सावधान और सतर्क रहना है। कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के लिये शारीरिक दूरी बनाये रखें, फेस मास्क का प्रयोग करें और बार-बार हाथ धोने का अवश्य ध्यान रखें। उन्होंने सभी पर्वों व त्योहारों के दौरान कोविड-19 प्रोटोकाॅल का पूर्ण पालन करने की अपील की।
राज्यपाल जी एवं मुख्यमंत्री जी ने संयुक्त रूप से वर्चुअल दीपोत्सव ूूूण्अपतजनंसकममचवजेंअण्बवउ पोर्टल को लाॅन्च किया। मुख्यमंत्री जी ने डाक विभाग एवं डाॅ0 राम मनोहर लोहिया अवध विष्वविद्यालय, अयोध्या के विषेष कवर का अनावरण किया। इस अवसर पर अयोध्या के विकास पर केन्द्रित एक लघु फिल्म का प्रदर्षन किया गया।
कार्यक्रम को उप मुख्यमंत्री श्री केषव प्रसाद मौर्य, पर्यटन एवं संस्कृति राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डाॅ0 नीलकंठ तिवारी, विधान परिषद सदस्य श्री स्वतंत्रदेव सिंह ने भी सम्बोधित किया। इसके पूर्व, रामकथा पार्क में हेलीकाॅप्टर से भगवान श्रीराम, माता सीता और लक्ष्मण जी के प्रतीक स्वरूपों का अवतरण हुआ, जिनका राज्यपाल जी एवं मुख्यमंत्री जी तथा विशिष्ट अतिथियों ने स्वागत व अभिनन्दन किया। इस दौरान भरत मिलाप का कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। प्रभु श्रीराम, माता सीता और लक्ष्मण जी के प्रतीक स्वरूपों के मंच के आने पर उनका पूजन, वंदन एवं आरती कर भगवान श्रीराम का प्रतीकात्मक राज्याभिषेक किया। मुख्यमंत्री जी ने पूजनीय सन्तों का स्वागत, वंदन और अभिनन्दन भी किया। इस अवसर पर हेलीकाॅप्टर द्वारा पुष्प वर्षा का मनमोहक दृश्य प्रस्तुत किया गया, जिससे उपस्थित जनसमुदाय आनन्दित हुआ। इस अवसर पर सम्पूर्ण वातावरण श्रीराम की जयघोष से गूंज उठा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने राम कथा पार्क में आयोजित प्रदर्षनी का अवलोकन किया।
इससे पूर्व, मुख्यमंत्री जी ने श्रीरामजन्मभूमि पहुंचकर श्रीरामलला विराजमान के दर्षन-पूजन कर वहां दीप प्रज्ज्वलित किया। इस अवसर पर भगवान श्रीराम के लीला चरित्र से जुड़ी विभिन्न झांकियों सहित भव्य शोभा यात्रा का आयोजन किया गया। यह मनोरम शोभा यात्रा साकेत महाविद्यालय से प्रारम्भ हुई, जो अयोध्या के मुख्य मार्गों से होते हुए रामकथा पार्क में समाप्त हुई। शोभा यात्रा में विभिन्न कलाकारों ने प्रतिभाग किया।
कार्यक्रम के दौरान जल शक्ति मंत्री डाॅ0 महेन्द्र सिंह, महन्त सुरेशदास जी, श्री वासुदेवाचार्यजी महाराज सहित बड़ी संख्या में साधु-सन्तगण सहित जनप्रतिनिधिगण, मुख्य सचिव श्री आर0के0 तिवारी, अपर मुख्य सचिव गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं एम0एस0एम0ई0 श्री नवनीत सहगल, सूचना निदेशक श्री शिशिर तथा शासन-प्रशासन के अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

 
 
   
 
 
 
                               
 
»
Home  
»
About Us  
»
Matermony  
»
Tour & Travels  
»
Contact Us  
 
»
News & Current Affairs  
»
Career  
»
Arts Gallery  
»
Books  
»
Feedback  
 
»
Sports  
»
Find Job  
»
Astrology  
»
Shopping  
»
News Letter  
up-webnews | Best viewed in 1024*768 pixel resolution with IE 6.0 or above. | Disclaimer | Powered by : omni-NET