|
|
|
|
|
|
|
|
|
     
  News  
 
गाजियाबाद में कोख के ग्यारह सौदागर गिरफ्तार, जन्म से पहले ही करते थे बच्चे को बेचने की डील
  • गाजियाबाद में बच्चे के जन्म से पहले कर दी पांच लाख की डील
    प्लेन से ले जाकर लखनऊ में बेचा चौदह माह का बच्चा

  • बच्चे खदीदने वेचने के गिरोह में 14 शामिल, 11 गिरफ्तार

- हरिओम गुप्ता -

Tags: #U.P Samachar Sewa ,
Publised on : 2021:05:23     Time 20:32  

गाज़ियाबाद , 23 मई 2021 (यूपी समाचार सेवा)। थाना लोनी पुलिस ने दस दिन पहले उड़ाकर लेजाये गए 14 माह के मासूम को लखनऊ से बरामद कर आठ महिलाओं समेत गिरोह के 11 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। तीन सदस्य फरार है। बच्चे के पिता ने उसे बेचने का सौदा जन्म के एक माह पहले ही कर दिया था। लेकिन झांसा देकर आरोपी रकम दिए बिना ही बच्चे को उड़ा ले गए। बच्चे को चोरी कर लेने की शिकायत की जांच के दौरान गिरोह पकड़ा गया और मासूम को बरामद किया गया।
पुलिस के अनुसार लोनी कोतवाली क्षेत्रान्तर्गत डाबर तालाब कालोनी में फरियाद तीन साल से पत्नी फात्मा व दो बेटियों के साथ रहता है। इससे पहले वो जिले के क़स्बा मुरादनगर में रहता था। पुलिस सीओ अतुल सोनकर ने बताया कि वहां दंपति ने महानगर के विजय नगर निवासी वाहिद को अपना एक बच्चा एक लाख रुपये में बेचा था। तभी से वाहिद और फरियाद का मेल -मिलाप चलता रहा। फरियाद की पत्नी को फिर एक बच्चा होने की वाहिद को जानकारी हुई तो उसने जन्म से एक माह पहले ही कोख में पल रहे बच्चे का सौदा ढाई लाख में खरीदने को पक्का कर दिया।
पुलिस अधीक्षक देहात डॉ.ईरज राजा ने बताया कि लखनऊ निवासी आलोक अग्निहोत्री को बहन के लिए बच्चे की जरुरत थी। इस कारण उसने डैली हंट नामक वेबसाइट से नंबर लेकर दिल्ली के तिलक नगर निवासी गुरमीत और उसकी पत्नी असमीत कौर से सम्पर्क कर बच्चा खरीदने को गुरमीत दंपति से साढ़े पांच लाख में सौदा कर दिया। कुछ राशि एडवांस दे दी। बाद में फरियाद के 14 माह के बच्चे को बताते हैं कि बिना कोई पैसा दिये ही चोरी कर उड़ाकर ले जाया गया और दिल्ली में गुरमीत को सौंप दिया गया। इसके बाद मासूम को प्लेन से लखनऊ ले जाकर एयर पोर्ट पर बकाया पूरा पैसा लेकर अग्निहोत्री को सौप दिया गया।
पुलिस ने बताया कि फ़रियाद ने शिकायत की थी उसका 14 माह का बच्चा कोई चुरा ले गया है। पुलिस ने जांच शुरू की तो मामला खुलता चला गया। बच्चा 12 मई को गायब हुआ था। बच्चे को बरामद कर उसके माता-पिता को सौंप दिया गया है। बच्चे को बचने के ऐवज में मिले रुपयों में से पांच लाख रूपए भी बरामद हुए है। शेष 50 हजार आरोपियों ने खर्च कर लिये। फरार तीन आरोपियों की तलाश जारी है। कुल 14 आरोपी प्रकाश में आये थे। इनमे 11 अरेस्ट कर लिए गए है। इनमे फरियाद का पूर्व परिचित वाहिद, जिले के डासना की उस्मान कालोनी का तरमीम ,मोनी उर्फ़ मोनिका व् रुबीना, वजीराबाद दिल्ली निवासी प्रीती ,दिल्ली के विकासपुरी की सरोज , द्वारका दिल्ली की ज्योति , बुध विहार दिल्ली की सरोज को गिरफ्तार किया है।
इंजीनियरिंग का छात्र लापता, हाथरस निवासी भाई ने लगाई पुलिस से गुहार
गाज़ियाबाद , 23 मई 2021 (यूपी समाचार सेवा)। हाथरस निवासी बी. टेक के छात्र का दो माह बाद भी पुलिस कोई सुराग नहीं लगा सकी है। छात्र यहाँ एकेजी इंजिनियरिंग कालेज में बी टेक् द्वतीय वर्ष की पढ़ाई कर रहा था।
छात्र के भाई हाथरस जंकंशन निवासी प्रशांत वार्ष्णेय ने ट्विटर पर पुलिस से गुहार लगाई है की उसके भाई विशाल को जल्द बरामद किया जाए। प्रशांत के अनुसार विशाल यहाँ एन एच 9 स्थित एकेजी इंजीनियरिंग कालेज में बी टेक् द्वितीय वर्ष का छात्र था। लकडाउन के चलते वो घर पर ही था। आठ मार्च को वो घर से परीक्षा देने गया था। एक माह रहने के लिए उसे यहाँ इन्दरगढ़ी में किराये का कमरा दिलाया गया था। पांच विषयों की परीक्षा देने के बाद 24 मार्च को अचानक वो लापता हो गया।
प्रशांत के अनुसार कालेज से उन्हें फोन आने पर पता चला कि विशाल प्रयोगात्मक परीक्षा के लिए कालेज नहीं पंहुचा। फोन लगाने पर विशाल का फोन ऑफ़ मिला। इस पर परिवार में चिंता हो गई। यहाँ आकर पुलिस को सूचना दी और मसूरी थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई। दो माह गुजर गए है। अभी तक पुलिस उसका सुराग नहीं लगा सकी है। एसएचओ ने बताया कि तलाश जारी है।

 
 
   
 
 
 
                               
 
»
Home  
»
About Us  
»
Matermony  
»
Tour & Travels  
»
Contact Us  
 
»
News & Current Affairs  
»
Career  
»
Arts Gallery  
»
Books  
»
Feedback  
 
»
Sports  
»
Find Job  
»
Astrology  
»
Shopping  
»
News Letter  
up-webnews | Best viewed in 1024*768 pixel resolution with IE 6.0 or above. | Disclaimer | Powered by : omni-NET