|
|
|
|
|
|
|
|
|
Election
     
     
 

   

The U.P. Web News

अयोध्या में श्रीराममन्दिर के लिए बना ट्रस्ट

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट होगा नाम

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संसद में ट्रस्ट निर्माण की घोषणा
गृह मंत्री अमित शाह ने बताया ट्रस्ट में होंगे 15 सदस्य ट्रस्टी
सरकार ने केन्द्रीय मंत्रिपरिषद् की बैठक के बाद संसद में दी जानकारी
केन्द्र ने पूर्व में अधिग्रहीत 67 एकड़ भूमि भी ट्रस्ट को सौंपी

Tags: #Ram Mandir Trust, PM anounced Trust in Parliament

 Ram Mandir Trust नई दिल्ली, 05 फरवरी 2020, ( यूपी समाचार सेवा UP Samachar Sewa)।अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि मन्दिर निर्माण के लिए ट्रस्ट की घोषणा केन्द्र सरकार ने बुधवार को लोकसभा में कर दी। ट्रस्ट का नाम श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट होगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्रस्ट के गठन की जानकारी दी। जबकि गृहमत्री अमित शाह ने बताया कि ट्रस्ट में 15 सदस्यों को शामिल किया गया है। इसके पीएम ने बताया कि इसके पहले कैबिनेट की बैठक में ट्रस्ट के गठन को स्वीकृति प्रदान की गई थी। सरकार ने इसके साथ ही संसद में यह भी घोषणा कि अयोध्या अधिनियम 1993 के अन्तर्गत अधिग्रीत सम्पूर्ण भूमि जोकि 67.70 एकड़ है वह भी इस ट्रस्ट को सौंपने का निर्णय लिया गया है।

ज्ञातव्य है कि नौ नवम्बर को सर्वोच्च न्यायालय ने श्रीरामलला विराजमान के पक्ष में फैसला सुनाते हुए सरकार को निर्देश दिया था कि वह मन्दिर निर्माण के लिए एक ट्रस्ट का गठन करेगी। इसके लिए तीन माह का समय भी निर्धारित किया गया था। इसलिए नौ फरवरी से पहले ट्रस्ट का गठन आवश्यक था।

ट्रस्ट में पांच संतों को स्थान मिला है। इसके साथ ही श्रीराम जन्मभूमि मामले को सर्वोच्च न्यायालय मे लड़न वाले वरिष्ठतम अधिवक्ता पारासरन को भी इसमें स्थान दिया गया है। अयोध्या के राजवंश से संबंध रखने वाले विश्वेन्द्र प्रताप मिश्र तथा राष्ट्रीय स्वयंसवेक संग के अवध प्रांत के कार्यवाह डा. अनिल मिश्र को ट्रस्टी बनाया गया है। ट्रस्ट के दस नाम घोषित कर दिये गए हैं। जबकि तीन नाम केन्द्र और राज्य सरकार नामित करेगी। ये सभी अधिकारी होंगे। केन्द्र सरकार एक वरिष्ठ आईएएस अधिकारी को नामिल करेगी जोकि संयुक्त सचिव स्तर का होगा तथा अनिवार्यरूप से हिन्दू होगा। इसी तरह राज्य  सरकार एक आईएएस अधिकारी को नामित करेगी जोकि सचिव स्तर का होगा तथा अनिवार्य रूप से हिन्दू होगा। इसके अलावा अयोध्या के जिलाधिकारी भी नामित सदस्य होंगे। यदि अयोध्या का जिलाधिकारी किसी समय गैरहिन्दू होगा तो ट्रस्ट में सदस्य के रूप में कोई हिन्दू अपर जिलाधिकारी रहेगा। ट्रस्ट में एक शंकराचार्य समेत पांच संतों को स्थान प्रदान किया गया है। निर्मोही अखाड़ा को ट्रस्ट में स्थान दिया गया है।

ट्रस्ट का गठन इस प्रकार किया गया है-

1. के. पाराशरन ( सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ट अधिवक्ता, पूर्व प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी और राजीव गांधी की सरकार में अटार्नी जनरल रहे। पद्मभूषण और पद्मविभूषण से सम्मानित। अयोध्या मामले की सर्वोच्च न्यायालय में पैरवी की।

2. जगदंगुरु शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानन्द सरस्वती जी महाराज (प्रयागराज)

3. जगदगुरु माधवाचार्य स्वामी विश्व प्रसन्नतीर्थ जी महाराज (कर्नाटक के उडुपी स्थित पेजावर मठ के 33 वें पीठाधीश्वर।

4. युगपुरुष परमानन्द जी महाराज (अखण्ड आश्रम हरिद्वार के प्रमुख )

5. स्वामी गोविन्द देव गिरि जी महाराज ( महाराष्ट्र के प्रमुख आध्यात्मिक संत)

6. विमलेन्द्र मोहन प्रताप मिश्र ( अयोध्या राजपरिवार के सदस्य)

7. डा. अनिल मिश्र ( राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अवध प्रांत के कार्यवाह)

8. श्री कामेश्वर चौपाल, पटना (दलित सदस्य) इन्होंने शिलान्यास में पहली ईंट रखी थी।

9. बोर्ड आफ ट्रस्टी सदस्य नामित करेंगे।

10. बोर्ड आफ ट्रस्टी सदस्य नामित करेगे।

11. महन्त दिनेन्द्र दास ( निर्मोही अखाड़े के प्रतिनिधि)

12. केन्द्र सरकार द्वारा नामित संयुक्त सचिव स्तर का हिन्दू आईएएस अधिकारी

13. उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा नामित सचिव स्तर का हिन्दू आईएएस अधिकारी

14. अयोध्या का जिलाधिकारी ( यदि जिलाधिकारी गैरहिन्दू होगा तो हिन्दू अपर जिलाधिकारी)

15. ट्रस्ट के सदस्य चेयरमैन का चयन बोर्ड आफ ट्रस्टीजी करेगे।

Comments on this News & Article: upsamacharsewa@gmail.com  

 
Man Ki Bat: प्रधानमंत्री ने स्थानीय उत्पाद अपनाने पर दिया बल चर्चित फैसलों के लिए याद किया जाएगा वर्ष 2019
टुकड़े-टुकड़े गैंग को सजा देने का वक्त अब आ गया है:अमित शाह नेतृत्व का मतलब जनता को उकसाना नहीं: जनरल रावत
हमने हर चुनौती का डटकर मुकाबला किया और आगे भी करेंगे झारखण्ड: भाजपा सत्ता से बाहर,  गठबंधन की जीत
दंगाइयों ने फूंकी दो पुलिस चौकी, बस और मीडिया की ओवी वैन #CAA के खिलाफ बसपा सांसद राष्ट्रपति से मिले
यूपी सरकार चाहती है नमामि गंगे परियोजना का समय बढ़े फतेहपुर में युवती को जिंदा जलाकर मारने की कोशिश
रामालय ट्रस्ट को मिले मन्दिर बनाने का अधिकार नये ट्रस्ट की जरूरत नहीं- महंत नृत्यगोपाल दास
 
 
                               
 
»
Home  
»
About Us  
»
Matermony  
»
Tour & Travels  
»
Contact Us  
 
»
News & Current Affairs  
»
Career  
»
Arts Gallery  
»
Books  
»
Feedback  
 
»
Sports  
»
Find Job  
»
Astrology  
»
Shopping  
»
News Letter  
up-webnews | Best viewed in 1024*768 pixel resolution with IE 6.0 or above. | Disclaimer | Powered by : omni-NET