|
|
|
|
|
|
|
|
|
Election
     
     
 

   

The U.P. Web News

राजद्रोह में परवेज मुशर्रफ को फांसी की सजा, सेना ने किया बचाव

Pakistan's Ex President Gen. Pervez Musharraf sentenced to death for treason

Tags: # Pakistan # General Pervez Musarraf # Peshaver Special Court #Justice Waqar Ahemad Seth

नई दिल्ली, 17 दिसम्बर 2019 । Web News पाकिस्तान की एक विशेष अदालत ने पूर्व राष्ट्रपति और सेना प्रमुख परवेज मुशर्रफ को फांसी की सजा सुनाई है। मुशर्रफ पर राजद्रोह का आरोप है। उन्हें पेशावर की स्पेशल अदालत ने मंगलवार को फांसी की सजाई। उन पर लगे राजद्रोह के मुकदमें की सुनवाई तीन सदस्यीय पीठ ने पांच दिसम्बर को ही पूरी कर ली थी। हालांकि इस फैसले पर पाकिस्तान की सेना ने नाखुशी जाहिर की है। सेना ने आधिकारिक  रूप से मुशर्रफ का बचाव किया है। कहा है कि मुशर्रफ गद्दार नहीं है।

परवेज मुशर्रफ पर आरोप है कि  उन्होंने राष्ट्रपति रहते हुए वर्ष 2007 में देश में आपातकाल लगाया था। उनके खिलाफ यह आरोप नवाज शरीफ की सरकार ने वर्ष 2013 में दर्ज किया था। इसकी लगातार सुनवाई चल रही थी। मुशर्रफ आजकल बीमारी के चलते दुबई में निर्वासित जीवन व्यतीत करते हुए अपना इलाज करा रहे हैं। परवेज मुशर्रफ ने 1999 में तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की सरकार को अपदस्थ करके सत्ता पर कब्जा कर लिया था और स्वयं सैनिक तानाशाह बन गए थे। इसके बाद पार्टी बनाकर चुनाव लड़ा और राष्ट्रपति बने थे। उनके कार्यकाल में ही पीपुल्स पार्टी की नेता बेनजीर भुट्टो की हत्या हो गई थी। इस हत्या में भी मुशर्ऱफ पर आरोप लगे थे।

कारगिल युद्ध का दोषी

परवेज मुशर्रफ को कारगिल युद्ध का मुख्य साजिशकर्ता माना जाता है। उसने सेना प्रमुख रहते हुए कारगिल में घुसपैठ करा दी थी। इसके बाद भारत को कारगिल से पाकिस्तानी सैनिकों को खदेड़ने के लिए एक लघु युद्ध लड़ना पड़ा था। आपरेशन विजय के नाम से किये गए सैन्य आपरेशन में भारतीय सेना ने पाकिस्तान के सैनिकों को खदेड़ कर कारगिल की पहाडियों को फिर से सुरक्षित कर दिया था। माना जाता है कि कारगिल की साजिश जनरल मुशर्रफ ने अपने प्रधानंमंत्री नवाज शरीफ को बताये बगैर रची थी।

पाकिस्तानी सेना ने किया बचाव

पाकिस्तान की सेना ने अपने पूर्व जनरल को गुनाहों की सजा मिलने के बाद उसका बचाव किया है। सेना ने अपने आधिकारिक ट्बीटर हैंडल से जारी बयान में कहा है कि मुशर्रफ ने गद्दारी नहीं की है। सेना ने उसकी सेवा की तारीफ की है।

Comments on this News & Article: upsamacharsewa@gmail.com  

 
यूपी सरकार चाहती है नमामि गंगे परियोजना का समय बढ़े फतेहपुर में युवती को जिंदा जलाकर मारने की कोशिश
रामालय ट्रस्ट को मिले मन्दिर बनाने का अधिकार नये ट्रस्ट की जरूरत नहीं- महंत नृत्यगोपाल दास
अयोध्या की सांस्कृतिक सीमा में मस्जिद मंजूर नहीं-विहिप सुप्रीम कोर्ट भी आरटीआई के दायरे में
श्रीरामजन्मभूमि संघर्ष का इतिहास-दो श्रीरामजन्मभूमि संघर्ष का इतिहास-तीन
Sri Ram Janmbhoomi Movement Facts & History श्रीरामजन्मभूमि संघर्ष का इतिहास एक
आक्रोशित कारसेवकों ने छह दिसंबर को खो दिया था धैर्य राम जन्मभूमि मामलाःकरोड़ों लोगों की आस्था ही सुबूत
धरम संसदः सरकार को छह माह की मोहलत मन्दिर निर्माण के लिए सरकार ने बढाया कदम,
 
 
                               
 
»
Home  
»
About Us  
»
Matermony  
»
Tour & Travels  
»
Contact Us  
 
»
News & Current Affairs  
»
Career  
»
Arts Gallery  
»
Books  
»
Feedback  
 
»
Sports  
»
Find Job  
»
Astrology  
»
Shopping  
»
News Letter  
up-webnews | Best viewed in 1024*768 pixel resolution with IE 6.0 or above. | Disclaimer | Powered by : omni-NET